15 Best Motivational Poem in Hindi | Inspirational Poems

Motivational Poem in Hindi: ऐसी कविताये हमे मोटीवेट करने में बहुत सहायता करती है तो पढ़िए इन Inspirational Motivational Poems in Hindi को

दोस्तों इस ब्लॉग में हम आपके लिए स्पेशल मोटिवेशनल कविताये लेकर आये है जिंदगी में बहुत बार ऐसा समय आता है की हम अपने लक्ष्य से भटक जाते है! और तब हमे सही रास्ते की जरूरत होती है और उस रास्ते पर सफलता पाने के लिए हमे Motivation चाहिए होता है! और आपके मोटिवेशन के स्त्रोत को बनाये रखने के लिए हम ये Motivational Poem in Hindi for Students लेके आये है पढ़िए और मोटीवेट हो जाइये अपने लक्ष्य को पाने के लिए..!! ये है Best Motivational Poem in Hindi:

  1. Aag Jalni Chahiye
  2. Mehnat Rang Laayi
  3. Koshish Karne Walon Ki Kabhi Haar Nahin Hoti
  4. Tum To Hare Nahin Tumhara Man Kyon Hara Hai
  5. Chal Sako To Chalo
  6. Koshish Kar Hal Niklega
  7. Girna Bhi Acha Hai
  8. Badhe Chalo Badhe Chalo
  9. Tu Chal Akela
  10. Kone Mein Baith Kar Kyun Rota Hai
  11. Tu Yudh Kar – Bas Yudh Kar
  12. Sapno Mein Udaan Bharo
  13. Tum To Haare Nahi, Tumhara Man Kyon Haara Hai
  14. Tum Chalo To Sahi
  15. Sapne Bunna Sikho

Motivational Poem in Hindi

1. Aag Jalni Chahiye – Motivational Poem in Hindi

Aag Lagni Chahiye - Motivational Poem in Hindi

हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए

आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी
शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं
सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए

– दुष्यंत कुमार | Dushyant Kumar

2. Mehnat Rang Laayi – Motivational Poem in Hindi

Mehnat Rang Layi - Motivational Poem in Hindi

नहीं बनाया किसी ने टाटा, बिरला, अंबानी,
खुद ही बने है सब अपने सपनों के सौदागर।

राह नहीं थी बनी बनाई, ना ही है कोई बड़ा ज्ञानी,
सब ने करी है कड़ी मेहनत, फिर है मेहनत रंग लाई।

एक पल में नहीं बनता सब कुछ,
पल पल मेहनत करके सब ने मंजिल है पाई।

कल क्या होगा ना ध्यान दिया, बस काम किया,
राह में मुश्किल उनके भी आई।

मुश्किल था मंजिल को पाना, बना दिया रास्ता,
चल दिए बिना किए किसी की परवाह।

सुना है उन्होंने भी ताना बाना,
लेकिन फितूर चढ़ा था कुछ पाने का।

तोड़ दिया सब का भ्रम, कर दिया सपनों को साकार,
ताना देने वालों ने ही हँसकर सत्कार किया।

ये भी पढ़ें ⇓⇓⇓⇓

3. Koshish Karne Walon Ki Kabhi Haar Nahin Hoti

Koshish Karne Walo Ki Haar Nahi Hoti - Motivational Poem in Hindi

लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती.

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चढ़ती है
चढ़ती दीवारों पर सौ बार फ़िसलती है

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है

मेहनत उसकी बेकार नहीं हर बार होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

डुबकियाँ सिंधु में गोताखोर लगाता है
जा-जा कर खाली हाथ लौट कर आता है

मिलते न सहज ही मोती गहरे पानी में
बढ़ता दूना विश्वास इसी हैरानी में

मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

असफ़लता एक चुनौती है, स्वीकार करो
क्या कमी रह गई देखो और सुधार करो

जब तक न सफल हो, नींद-चैन को त्यागो तुम
संघर्षों का मैदान छोड़ मत भागो तुम

कुछ किये बिना ही जय-जयकार नहीं होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

– सोहन लाल द्विवेदी | Sohan Lal Dwivedi

4. Tum To Hare Nahin Tumhara Man Kyon Hara Hai

Motivational Kavita in Hindi

तुम तो हारे नहीं तुम्हारा मन क्यों हारा है?
कहते हैं ये शूल चरण में बिंधकर हम आए

किंतु चुभे अब कैसे जब सब दंशन टूट गए
कहते हैं पाषाण रक्त के धब्बे हैं हम पर

छाले पर धोएं कैसे जब पीछे छूट गए
यात्री का अनुसरण करें, इसका न सहारा है!
तुम्हारा मन क्यों हारा है?

इसने पहिन वसंती चोला कब मधुबन देखा?
लिपटा पग से मेघ न बिजली बन पाई पायल

इसने नहीं निदाघ चाँदनी का जाना अंतर
ठहरी चितवन लक्ष्यबद्ध, गति थी केवल चंचल!

पहुँच गए हो जहाँ विजय ने
तुम्हें पुकारा है, तुम्हारा मन क्यों हारा है?

– स्व. महादेवी वर्मा | Late Mahadevi Verma

5. Koshish Kar Hal Niklega – Long Motivational Poems in Hindi

Koshish Kar, Hal Niklega - Inspirational Poem in Hindi

कोशिश कर, हल निकलेगा आज नहीं तो, कल निकलेगा.
अर्जुन के तीर सा सध मरूस्थल से भी जल निकलेगा.

मेहनत कर, पौधों को पानी दे,
बंजर जमीन से भी फल निकलेगा.

ताकत जुटा, हिम्मत को आग दे
फ़ौलाद का भी बल निकलेगा.

जिंदा रख, दिल में उम्मीदों को
गरल के समंदर से भी गंगाजल निकलेगा.

कोशिशें जारी रख कुछ कर गुजरने की
जो है आज थमा-थमा सा, चल निकलेगा.

– आनंद परम | Anand Param

6. Chal Sako To Chalo – Motivational Poem in Hindi

Chal Sako to Chalo - Inspirational Poem in Hindi

सफ़र में धूप तो होगी, जो चल सको तो चलो
सभी हैं भीड़ में, तुम भी निकल सको तो चलो

इधर-उधर कई मंजिल है, चल सको तो चलो
बने बनाये हैं साँचे, जो ढल सको तो चलो

किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं
तुम अपने आप को खुद बदल सको तो चलो

यहाँ किसी को कोई रास्ता नहीं देता
मुझे गिराके अगर तुम संभल सको तो चलो

यही है जिंदगी कुछ ख्वाब चंद उम्मीदें
इन्हें खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो

हर एक सफ़र को है मह्फूज़ रास्तों की तलाश
हिफाज़तों की रिवायत बदल सको, तो चलो

कहीं नहीं कोई सूरज, धुआँ-धुआँ है फिज़ा
ख़ुद अपने आप से बाहर निकल सको, तो चलो.

निदा फ़ाज़ली | Nida fazli

7. Girna Bhi Acha Hai – Inspirational Poems in Hindi

Girna Bhi Acha Hai - Motivational Poem in Hindi

गिरना भी अच्छा है, औकात का पता चलता है,
बढ़ते हैं जब हाथ उठाने को, अपनों का पता चलता है!

जिन्हे गुस्सा आता है, वो लोग सच्चे होते हैं,
मैंने झूठों को अक्सर मुस्कुराते हुए देखा है!

सीख रहा हूँ मैं भी, मनुष्यों को पढ़ने का हुनर,
सुना है चेहरे पे, किताबो से ज्यादा लिखा होता है..!!

– अमिताभ बच्चन

8. Badhe Chalo Badhe Chalo

Badhe Chalo Badhe Chalo - Motivational Poem in Hindi

न एक हाथ शस्त्र हो, न हाथ एक अस्त्र हो
न अन्न वीर वस्त्र हो, हटो नहीं, डरो नहीं, बढ़े चलो, बढ़े चलो

रहे समक्ष हिम-शिखर, तुम्हारा प्रण उठे निखर
भले ही जाए जन बिखर, रुको नहीं, झुको नहीं, बढ़े चलो, बढ़े चलो

घटा घिरी अटूट हो, अधर में कालकूट हो
वही सुधा का घूंट हो, जिये चलो, मरे चलो, बढ़े चलो, बढ़े चलो

गगन उगलता आग हो, छिड़ा मरण का राग हूँ
लहू का अपने फाग हो, अड़ो वहीं, गड़ो वहीं, बढ़े चलो, बढ़े चलो

चलो नई मिसाल हो, जलो नई मशाल हो
झुको नहीं, रुको नहीं, बढ़े चलो, बढ़े चलो

अशेष रक्त तोल दो, स्वतंत्रता का मोल दो
कड़ी युगों की खोल दो, डरो नहीं, मरो नहीं, बढ़े चलो, बढ़े चलो

– सोहनलाल द्विवेदी | Sohanlal Dwivedi

9. Tu Chal Akela – Motivational Kavita in Hindi

Tu Akela Chal - Motivational Poem in Hindi

तेरा आह्वान सुन कोई ना आए, तो तू चल अकेला,
चल अकेला, चल अकेला, चल तू अकेला..!!

तेरा आह्वान सुन कोई ना आए, तो चल तू अकेला,
जब सबके मुंह पे पाश..!!

ओरे ओरे ओ अभागी, सबके मुंह पे पाश,
हर कोई मुंह मोड़के बैठे, हर कोई डर जाय..!!

तब भी तू दिल खोलके, अरे! जोश में आकर,
मनका गाना गूंज तू अकेला..!!

जब हर कोई वापस जाय, ओरे ओरे ओ अभागी हर कोई बापस जाय,
कानन-कूचकी बेला पर सब कोने में छिप जाय..!!

– रवीन्द्रनाथ ठाकुर

10. Kone Mein Baith Kar Kyun Rota Hai

Kone Mein Baith Kar Kyu Rota Hai - Motivational Poem in Hindi

कोने में बैठ कर क्यों रोता है,
यू चुप चुप सा क्यों रहता है..!!

आगे बढ़ने से क्यों डरता है,
सपनों को बुनने से क्यों डरता है..!!

तकदीर को क्यों रोता है,
मेहनत से क्यों डरता है..!!

झूठे लोगो से क्यों डरता है,
कुछ खोने के डर से क्यों बैठा है..!!

हाथ नहीं होते नसीब होते है उनके भी,
तू मुट्ठी में बंद लकीरों को लेकर रोता है..!!

भानू भी करता है नित नई शुरुआत,
सांज होने के भय से नहीं डरता है..!!

मुसीबतों को देख कर क्यों डरता है,
तू लड़ने से क्यों पीछे हटता है..!!

किसने तुमको रोका है,
तुम्ही ने तुम को रोका है..!!

भर साहस और दम, बढ़ा कदम,
अब इससे अच्छा कोई न मौका है..!!

– नरेंद्र वर्मा

11. Tu Yudh Kar – Bas Yudh Kar

Tu Yudh Kar - मोटिवेशनल कविता

माना हालात प्रतिकूल हैं, रास्तों पर बिछे शूल हैं,
रिश्तों पे जम गई धूल है, पर तू खुद अपना अवरोध न बन
तू उठ खुद अपनी राह बना.

माना सूरज अँधेरे में खो गया है
पर रात अभी हुई नहीं, यह तो प्रभात की बेला है

तेरे संग है उम्मीदें, किसने कहा तू अकेला है
तू खुद अपना विहान बन, तू खुद अपना विधान बन

सत्य की जीत हीं तेरा लक्ष्य हो
अपने मन का धीरज, तू कभी न खो

रण छोड़ने वाले होते हैं कायर
तू तो परमवीर है, तू युद्ध कर – तू युद्ध कर

इस युद्ध भूमि पर, तू अपनी विजयगाथा लिख
जीतकर के ये जंग, तू बन जा वीर अमिट

तू खुद सर्व समर्थ है, वीरता से जीने का हीं कुछ अर्थ है
तू युद्ध कर – बस युद्ध कर

12. Sapno Mein Udaan Bharo – Short Motivational Poem in Hindi

Sapno Mein Udaan Bharo - मोटिवेशनल कविता

कुछ काम करो, न मन को निराश करो
पंख होंगे मजबूत, तुम सपनों में साहस भरो,
गिरोगे लेकिन फिर से उड़ान भरो, सपनों में उड़ान भरो।

तलाश करो मंजिल की, ना व्यर्थ जीवनदान करो,
जग में रहकर कुछ नाम करो, अभी शुरुआत करो,
सुयोग बीत न जाए कहीं, सपनों में उड़ान भरो।

समझो खुद को, लक्ष्य का ध्यान करो,
यूं ना बैठकर बीच राह में, मंजिल का इंतजार करो,
संभालो खुद को यूं ना विश्राम करो, सपनों में उड़ान भरो।

उठो चलो आगे बढ़ो, मन की आवाज सुनो,
खुद के सपने साकार करो, अपना भी कुछ नाम करो,
इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करो, सपनों में उड़ान भरो।

बहक जाएं गर कदम, तो गुरु का ध्यान करो,
तुम पा ना सको ऐसी कोई मंजिल नहीं, हार जीत का मत ख्याल करो,
अडिग रहकर लक्ष्य का रसपान करो, सपनों में उड़ान भरो।

– नरेंद्र वर्मा

13. Tum To Haare Nahi, Tumhara Man Kyon Haara Hai

Tum To Haare Nahi, Tumhara Man Kyo Haara Hai

तुम तो हारे नहीं तुम्हारा मन क्यों हारा है?
कहते हैं ये शूल चरण में बिंधकर हम आए

किंतु चुभे अब कैसे जब सब दंशन टूट गए
कहते हैं पाषाण रक्त के धब्बे हैं हम पर

छाले पर धोएं कैसे जब पीछे छूट गए, यात्री का अनुसरण करें
इसका न सहारा है, तुम्हारा मन क्यों हारा है?

इसने पहिन वसंती चोला कब मधुबन देखा?
लिपटा पग से मेघ न बिजली बन पाई पायल

इसने नहीं निदाघ चाँदनी का जाना अंतर
ठहरी चितवन लक्ष्यबद्ध, गति थी केवल चंचल!

पहुँच गए हो जहाँ विजय ने
तुम्हें पुकारा है, तुम्हारा मन क्यों हारा है?

– स्व. महादेवी वर्मा

14. Tum Chalo To Sahi – Motivational Poem in Hindi for Students

Tum Chalo To Sahi - मोटिवेशनल कविता

राह में मुश्किल होगी हजार, तुम दो कदम बढाओ तो सही,
हो जाएगा हर सपना साकार, तुम चलो तो सही, तुम चलो तो सही।

मुश्किल है पर इतना भी नहीं, कि तू कर ना सके,
दूर है मंजिल लेकिन इतनी भी नहीं, कि तु पा ना सके,
तुम चलो तो सही, तुम चलो तो सही।

एक दिन तुम्हारा भी नाम होगा, तुम्हारा भी सत्कार होगा,
तुम कुछ लिखो तो सही, तुम कुछ आगे पढ़ो तो सही,
तुम चलो तो सही, तुम चलो तो सही।

सपनों के सागर में कब तक गोते लगाते रहोगे, तुम एक राह चुनो तो सही,
तुम उठो तो सही, तुम कुछ करो तो सही, तुम चलो तो सही, तुम चलो तो सही।

कुछ ना मिला तो कुछ सीख जाओगे, जिंदगी का अनुभव साथ ले जाओगे,
गिरते पड़ते संभल जाओगे, फिर एक बार तुम जीत जाओगे।
तुम चलो तो सही, तुम चलो तो सही।

– नरेंद्र वर्मा

15. Sapne Bunna Sikho – Motivational Kavita in Hindi

Sapne Bunna Sikh Lo- मोटिवेशनल कविता

बैठ जाओ सपनों के नाव में,
मौके की ना तलाश करो, सपने बुनना सीख लो।

खुद ही थाम लो हाथों में पतवार,
माझी का ना इंतजार करो, सपने बुनना सीख लो।

पलट सकती है नाव की तकदीर,
गोते खाना सीख लो, सपने बुनना सीख लो।

अब नदी के साथ बहना सीख लो,
डूबना नहीं, तैरना सीख लो, सपने बुनना सीख लो।

भंवर में फंसी सपनों की नाव,
अब पतवार चलाना सीख लो, सपने बुनना सीख लो।

खुद ही राह बनाना सीख लो,
अपने दम पर कुछ करना सीख लो, सपने बुनना सीख लो।

तेज नहीं तो धीरे चलना सीख लो,
भय के भ्रम से लड़ना सीख लो, सपने बुनना सीख लो।

कुछ पल भंवर से लड़ना सीख लो,
समंदर में विजय की पताका लहराना सीख लो, सपने बुनना सीख लो।

– नरेंद्र वर्मा

Final Words on Motivational Poem in Hindi

आपको ये ब्लॉग Long Motivational Poems in Hindi और Short Motivatioal Poems in Hindi about Success  कैसा लगा कमेंट करके जरुर बताएं! इसके आलावा भी अगर ब्लॉग या वेबसाइट से संबधित कोई Suggestion या Advice है तो दे सकते है हम उसमे सुधार करने की कोशिश करेंगे!

अगर आपको Motivational Poems in Hindi पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें! और हमे FacebookInstagram और Pinterest पर भी फॉलो कर सकते है..!! धन्यवाद

1 thought on “15 Best Motivational Poem in Hindi | Inspirational Poems”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top